मस्तिष्क कैंसर – Brain Tumor In Hindi

मस्तिष्क कैंसर - Brain Tumor In Hindi

क्या है ब्रेन ट्यूमर

मस्तिष्क कैंसर तब होता है जब मस्तिष्क की असामान्य कोशिकाएं अनियंत्रित ढंग से विकसित होने लगती हैं। मस्तिष्क शरीर की केंद्रीय तंत्रिका प्रणाली का हिस्सा है मस्तिष्क कैंसर जहाँ मस्तिष्क के ऊतकों में कैंसर कोशिकाओं (घातक) बड़े मस्तिष्क का एक रोग है। 

कैंसर कोशिकाओं के कैंसर ऊतकों (ट्यूमर) कि मस्तिष्क ऊतक कार्यों जैसे मांसपेशी नियंत्रण, सनसनी, स्मृति, और अन्य सामान्य शरीर के कार्यों के साथ हस्तक्षेप के एक बड़े पैमाने पर के रूप में हो जाना। कैंसर कोशिकाओं का बना ट्यूमर घातक ट्यूमर कहा जाता हैं, और उन के noncancerous कोशिकाओं से बना सौम्य ट्यूमर कहा जाता है। कैंसर कोशिकाओं है कि मस्तिष्क के ऊतकों से विकसित प्राथमिक ब्रेन ट्यूमर कहा जाता है। सांख्यिकी सुझाव है कि मस्तिष्क कैंसर दुर्लभ नहीं है और प्रति वर्ष लगभग 20000 लोगों में विकसित होने की संभावना है.

मस्तिष्क कैंसर के दो मुख्य प्रकार हैं। प्राथमिक मस्तिष्क कैंसर मस्तिष्क में शुरू होता है। Metastatic मस्तिष्क कैंसर शरीर में कहीं और शुरू होता है और मस्तिष्क को ले जाता है। ब्रेन ट्यूमर हो सकता है कोई कैंसर कोशिकाओं के साथ सौम्य या घातक, कि जल्दी से बढ़ती कैंसर कोशिकाओं के साथ. हालांकि ऐसी वृद्धि लोकप्रिय मस्तिष्क ट्यूमर कहा जाता है, नहीं सभी मस्तिष्क ट्यूमर कैंसर हैं। कैंसर के घातक ट्यूमर के लिए आरक्षित पद है. घातक ट्यूमर हो जाना और आक्रामक तरीके, उनके स्थान, रक्त और पोषक तत्व लेने के द्वारा स्वस्थ कोशिकाओं जोरदार फैल गया। (शरीर के सभी कोशिकाओं की तरह, ट्यूमर कोशिकाओं रक्त और जीवित रहने के लिए पोषक तत्वों की जरूरत है.

शरीर में बननेवाले सेल्स कुछ समय बाद नष्ट हो जाते हैं और उनकी जगह नये सेल्स बन जाते हैं. यह एक साधारण प्रक्रिया है. जब यह प्रक्रिया बाधित हो जाती है, तो ट्यूमर सेल्स बनने लगते हैं. ट्यूमर कई कारणों से बन सकते हैं, जैसे- विशेष प्रकार के विषाणु के संक्रमण से, प्रदूषित पदार्थो का श्वसन के साथ शरीर में प्रवेश कर जाने से आदि. ये सेल्स इकट्ठे होकर टिश्यू बनाते हैं. ये सेल्स मरते नहीं हैं. समय के साथ ट्यूमर भी बढ़ता रहता है. ट्यूमर मस्तिष्क के जिस क्षेत्र में बनता है, उस क्षेत्र के कार्य करने की प्रक्रिया बाधित हो जाती है. यह किसी भी उम्र में हो सकता है. तीन से 15 वर्ष के बच्चों को हो सकता है. ज्यादातर 50 वर्ष के बाद होता है.

मस्तिष्क कैंसर कितने प्रकार के होते हैं

ब्रेन ट्यूमर मामूली या घातक हो सकते हैं। उनका नाम उन कोशिकाओं पर रखा गया है जिनमें कैंसर सबसे पहले विकसित होता है। मामूली ब्रेन ट्यूमर का एक उदाहरण मेनिनजियोमा है
सबसे आम घातक ब्रेन ट्यूमर ग्लियोमास कहलाता हैइसमें एस्ट्रोसाइटोमा, ग्लियोब्लास्टोमा मल्टीफ़ॉर्म और ओलिगोडेंड्रोग्लियोमा शामिल हैं।

मेलिग्नेंट ट्यूमर : इनमें कैंसर कोशिकाएं होती हैं. ये काफी संवेदनशील होते हैं. ये मस्तिष्क में काफी तेजी से बढते हैं. ये कोशिकाएं दिमाग के दूसरे हिस्सों और रीढ़ में भी फैल सकती हैं.

बिनाइन ट्यूमर : ये नॉन कैंसरस होते हैं. इन्हें आसानी से निकाला जा सकता है, लेकिन इनके दोबारा होने का खतरा भी बना रहता है. बिनाइन ट्यूमर मस्तिष्क के दूसरे हिस्सों में नही फैलते हैं. कुछ मामले में बाद में यह मेलिग्नेंट ट्यूमर भी बन सकते हैं.

मस्तिष्क कैंसर के क्या-क्या लक्षण होते हैं

ब्रेन ट्यूमर किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन बढ़ते उम्र के साथ इसका जोखिम भी बढ़ जाता है. कई मामलों में तो यह आनुवांशिक कारण हो सकता है और कई बार किसी केमिकल के ज्यादा इस्तेमाल या रेडिएशन से हो सकता है. बहुत से लोगों को पता ही नहीं चलता है कि उन्हें ब्रेन ट्यूमर है
मस्तिष्क कैंसर के लक्षण इस पर निर्भर करते हैं कि मस्तिष्क में ट्यूमर (गांठ) कहाँ स्थित है, ट्यूमर का आकार क्या है और यह कितनी तेज़ी से बढ़ रहा है। मस्तिष्क कैंसर के कुछ आम लक्षणों में निम्न शामिल हैं:

  • गंभीर सिरदर्द, जिसके साथ मितली और उल्टी हो सकती है या शायद न भी हो
  • शरीर के एक हिस्से में कमजोरी (हेमिपेरेसिस)
  • दौरे
  • सोच या व्यक्तित्व में परिवर्तन
  • अशांत दृष्टि या बोली
  • गतिविधि नियंत्रित करने में परेशानी (गतिविभ्रम
  • चक्कर आना
  • मानसिक व व्यक्तित्व बदलाव- मरीजों के स्वभाव संबंधी व्यवहार व व्यक्तित्व में बदलाव पाया जाता है। मरीज को बोलने में तकलीफ महसूस होती है व स्मरण शक्ति भी कम हो जाती है।
  • मास इफेक्ट- यह इंट्राक्रेनियल दबाव के बढऩे से होता है जिसके लक्षण हैं- उल्टी व जी मचलाना, चक्कर आना, दृष्टि, संबंधी तकलीफें, धुंधला दिखाई देना, नेत्रों संबंधी नस (पापिलेडेमा) में सूजन। 
  • यह लक्षण छोटे बच्चों में, उम्रदराज लोगों में व जिनमें धीरे-धीरे ट्यूमर बढ़ता है, आदि लोगों में पाए जाते हैं।

न सिर्फ मस्तिष्क कैंसर बल्कि ऐसी अनेक स्थितियाँ हो सकती हैं जिनके कारण ये लक्षण हो सकते हैं। यदि आपको इनमें से किसी एक लक्षण का अनुभव हुआ है, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप डॉक्टर के साथ इसकी चर्चा करें।

मस्तिष्क कैंसर के खतरे के कारण क्या-क्या होते हैं

सुबह-सुबह सिरदर्द होना एक महत्वपूर्ण चेतावनी संकेत है और इसे नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए।  इंटराक्रेनियनल प्रेशर (आईआईसीपी) के लगातार बढ़ने से मस्तिष्क पर दबाव की मात्रा काफी बढ़ जाती है और इससे अत्यधिक तरल पैदा होता है, मस्तिष्क में सूजन आती है या एक गांठ बन जाती है, जो ब्रेन ट्यूमर का कारण हो सकता है।

  • खतरे का एक कारण, ऐसा कोई भी कारण होता है जो स्वास्थ्य संबंधी किसी विशेष स्थिति (बीमारी) जैसे कि मस्तिष्क कैंसर के होने की अधिक संभावना से जुड़ा हुआ होता है। 
  • खतरे के कारण विभिन्न प्रकार के होते हैं, इनमें से कुछ में सुधार या परिवर्तन लाया जा सकता है कुछ में नहीं। इस पर ध्यान देना चाहिए कि खतरे के एक या अधिक कारण होने का अर्थ यह नहीं कि व्यक्ति को मस्तिष्क कैंसर हो जाएगा। 
  • अनेक लोगों में खतरे का कम से कम एक कारण होता है लेकिन उन्हें कभी मस्तिष्क कैंसर नहीं होता, जबकि हो सकता है कि मस्तिष्क कैंसर से पीड़ित अन्य लोगों में खतरे का कोई भी ज्ञात कारण नहीं रहा हो। बावजूद इसके कि मस्तिष्क कैंसर से पीड़ित किसी व्यक्ति में खतरे का कोई कारण हो, यह जानना 
  • सामान्यतः मुश्किल होता है कि उस खतरे के कारण ने उनकी बीमारी के विकास में कितना योगदान दिया। यद्यपि मस्तिष्क कैंसर के कारणों को अच्छी तरह नहीं समझा जा सका है, 
  • बीमारी विकसित होने के जोख़िम से संबद्ध अनेक कारण हैं। इन कारणों में निम्न शामिल है: बढ़ती आयु
  • मस्तिष्क कैंसर का पारिवारिक इतिहास होना

मस्तिष्क कैंसर की पहचान किस प्रकार की जाती है

मस्तिष्क कैंसर के लक्ष्णों की पड़ताल करने और पहचान की पुष्टि के लिए अनेक परीक्षण (जाँच) किए जाएँगे। कुछ आम परीक्षणों में निम्न शामिल हैं:

  • शारीरिक जाँच
  • इमेजिंग जाँच जैसे कि कंप्यूटेड टोमोग्राफ़ी (computed tomography) (CT) स्कैन या मैग्नेटिक रेज़ॉनेन्स इमेजिंग (magnetic resonance imaging) (MRI)
  • माइक्रोस्कोप के द्वारा परीक्षण करने के लिए मस्तिष्क से ऊतकों का नमूना लेना (बायोप्सी)
  • ब्रेन कैंसर होने का अर्थ है कि आपके दिमाग में ट्यूमर लगातार बढ़ रहा है। ट्यूमर यानी दिमाग में बहुत सारी कोशिकाओं का अनियंत्रि‍त होना। ऐसे में कोशिकाओं को नियंत्रण लगातार बिगड़ता रहता है और कोशिकाओं का विभाजन असमान्य रूप से ब्रेन में होता रहता है। जो कि ब्रेन सेल्स को घातक नुकसान पहुंचा सकते हैं।
  • ब्रेन में अनियं‍त्रि‍त कोशिकाएं ब्रेन सेल्स के आसपास तेजी से फैलती है जो कि कैंसर का रूप धारण करती रहती हैं। जिसे शल्यि चिकित्सा द्वारा हटाना भी मुश्किल होता है।
  • कैंसर का पता लगाना बहुत मुश्किल होता है लेकिन ब्रेन कैंसर कई तरह का पाया गया है। इनमें से सबसे खतरनाक ब्रेन कैंसर ग्लिसयोमास पाया गया है।

ब्रेन कैंसर को रोकने के उपाय

  • नींद पूरी लें। 
  • तनाव से दूर रहें। 
  • नशा, एल्कोहल इत्यादि ड्रग्स ना लें। 
  • नियमित रूप से व्या्याम करें। 
  • पौष्टिक और संतुलित आहार लें। 
  • जंकफूड से दूर रहें। 
  • पानी अधिक मात्रा में लें। 
  • अधिक से अधिक सक्रिय रहें।

उपचार विकल्प

कैंसर से पीड़ित लोगों के उपचार और देखभाल आमतौर पर बहु-विषयक टीम के नाम से जानी जाने वाली स्वास्थ्य पेशेवरों की एक टीम, द्वारा की जाती है।  मस्तिष्क कैंसर का उपचार बीमारी के चरण, लक्षणों की गंभीरता और व्यक्ति के सामान्य स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। उपचार में मस्तिष्क के प्रभावित हिस्से को निकालने हेतु सर्जरी शामिल हो सकती है, और कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए रेडियोथेरेपी और/या कीमोथेरेपी भी शामिल हो सकता है।मस्तिष्क कैंसर के लिए इलाज रोगी की आयु, रोग, प्रकार और ट्यूमर के स्थान की अवस्था पर निर्भर करता है और कि कैंसर है एक प्राथमिक ट्यूमर या मस्तिष्क metastases. ऑन्कोलॉजी टीम और रोगी द्वारा उपचार योजना विकसित की है। उपचार शल्य चिकित्सा, विकिरण और कीमोथेरेपी के किसी भी संयोजन शामिल है। कुछ ट्यूमर कई अलग शल्यचिकित्सा की प्रक्रियाओं की आवश्यकता होती है, और कुछ अकेले विकिरण के साथ इलाज किया जा सकता.

इलाज शुरू होने से पहले, अधिकांश रोगी स्टेरॉयड, दवाओं है कि सूजन या सूजन को राहत दी जाती है। अपने को रोकने या दौरे का नियंत्रण करने के लिए anticonvulsant दवा प्राप्त हो सकता है। यदि जलशीर्ष मौजूद है, तो आप मस्तिष्कमेरु तरल निकास के लिए एक अलग धकेलना की आवश्यकता हो सकती। एक अलग धकेलना एक लंबी, पतली ट्यूब मस्तिष्क के निलय में रखा गया और फिर शरीर, आमतौर पर पेट के किसी अन्य भाग से त्वचा के नीचे पिरोया है। यह एक drainpipe की तरह काम करता है। अतिरिक्त तरल पदार्थ मस्तिष्क से दूर किया जाता है और पेट में लीन है। कुछ मामलों में, दिल में द्रव सूखा है.विभिन्न प्रकार के कैंसरों की पहचान और उपचार के नए तरीकों को खोजने के लिए शोध कार्य जारी है। मस्तिष्क कैंसर के इलाज के नए तरीकों को जाँचने के लिए कुछ लोगों को चिकित्सकीय जाँच में भागीदारी का प्रस्ताव दिया जा सकता है।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.